सुनहरे दौर की ओर बढ़े पटना के कदम

पटना बंदूकों के भय से अब पूरी तरह आजाद हो चुका है. इसका एहसास यहां की नाइट लाइफ को देखकर बखूबी हो जाता है. अब पटना की सड़कों पर महंगी गाड़ियां दौड़ती हैं, महंगे लिबास पहने लोग इठलाते हैं. उन्हें शाम होते ही घर की ओर भागना नहीं पड़ता. अब देश के बाकी शहरों के लोगों की तरह वे भी विकास और आधुनिकता का स्वाद बखूबी चख रहे हैं. इस खुली फि.जा के बारे में गर्दनीबाग की संध्या मिश्र बताती हैं, ‘शॉपिंग करते हुए देर होने पर भी अब घबराहट नहीं होती. कानून-व्यवस्था में निरंतर सुधार हुआ है.’ पुलिस रिकॉर्ड से भी इस बात की पुष्टि हो जाती है, राज्‍य की राजधानी में आपराधिक घटनाओं में 2010 की तुलना में 2011 में 7.5 फीसदी की कमी आई है.

कुछ अच्‍छी बातें पटना अपने खौफनाक अतीत को पीछे छोड़ चुका है और विकास की राह पर तेज छलांग लगा रहा है. बढ़िया सड़क विकास का पहिया तेज कर देती है. पटना की साफ और चिकनी सड़कें इसकी गवाह हैं. शहर में रोजाना 1.83 लाख वाहनों की आवाजाही होती है, जिनमें से ज्‍यादातर उत्तर बिहार को जोड़ने वाले गांधी सेतु से आते-जाते हैं. बिहार सड़क निर्माण विभाग के मुताबिक, 2000-01 तक पटना में 177 किमी सड़कें थीं, जो 2010-11 में 218 किमी हो गई हैं. पिछले पांच साल में 8 किमी के 6 ओवरब्रिज और फ्लाईओवर बने हैं. इसका असर आम लोगों के रहन-सहन में दिखने लगा है. पटना नगर निगम के मेयर अफजल इमाम बताते हैं, ‘सड़कों के निर्माण और नागरिक सुविधाओं के विस्तार से लोगों की खुशहाली घर से बाहर झलकने लगी है.’

मैन्युफैक्चरिंग ग्रोथ में बिहार की स्थिति काफी बेहतर हुई है. केंद्रीय उद्योग और वाणिज्‍य मंत्रालय की रिपोर्ट के मुताबिक, 2010-11 में बिहार की 15 फीसदी मैन्युफैक्चरिंग ग्रोथ दर्ज की गई है. पटना कंज्‍यूमर गुड्स इंडस्ट्रीज, हरित क्रांति और सर्विस सेक्टर के केंद्र के रूप में तेजी से उभर रहा है. यह मैन्युफैक्चरिंग और रिटेल में महत्वपूर्ण इकाई बना हुआ है. सुविधाओं के विस्तार से यहां शहरीकरण की रफ्तार बढ़ी है और शहरीकरण में 21.40 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज हुई है.

जनगणना 2011 के मुताबिक, राज्‍य में 11.30 फीसदी शहरी आबादी है, जबकि पटना में 43.48 फीसदी आबादी शहरी है. यह शहर एजुकेशनल हब के रूप में भी विकसित हो रहा है. यह पूर्वी भारत में कोचिंग के सबसे बड़े केंद्र के तौर पर स्थापित है. बीपीओ, आइटी, सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट, मेडिकल बायोटेक्नोलॉजी, नर्सिंग, हॉर्टिकल्चर, मर्चेंट नेवी, टीचिंग और रिसर्च जैसे क्षेत्रों में पटना की भागीदारी बढ़ी है. दूरसंचार में भी पांच गुना की बढ़ोतरी हुई है. 2005-06 में उपभोक्ताओं की संख्या 42 लाख थी, जो 2010-11 में 4.15 करोड़ पहुंच चुकी है.

इंडिया सिटी कंपीटीटिवनेस रिपोर्ट 2011 बताती है कि 2011 में पटना शहर की स्थिति पिछले साल से बेहतर हुई है. देश के 50 शहरों में पटना को 33वां रैंक मिला है, जबकि 2010 में यह 47वां था. रिपोर्ट में इसे इन्फ्रास्ट्रक्चर में 44वां और इंस्टीट्यूशनल इन्फ्रास्ट्रक्चर में 29वां रैंक दिया गया है. यही नहीं, एक अंतरराष्ट्रीय संस्था सिटी मेयर्स ने दुनिया के 100 तेजी से बढ़ते शहरों में पटना को शामिल किया है, जिसे 3.72 फीसदी की सालाना औसत विकास दर की बदौलत 21वें स्थान पर रखा गया है.

खूबियां और खामियांनगर विकास और आवास विभाग के प्रधान सचिव शशि शेखर शर्मा मानते हैं कि बेहतर माहौल के कारण स्वाभाविक रूप से पटना में विकास की गति तेज हुई है. वे बताते हैं, ”प्राइवेट सेक्टर के लोगों को सुरक्षा और निवेशकों को भूमि उपलब्ध कराए जाने से बेहतर माहौल बना है, जिससे निवेशकों की दिलचस्पी जगी है.” देश और दुनिया के लोगों को भी पटना भाने लगा है. यहां 2011 में विदेशी पर्यटकों की संख्या में 50 फीसदी और देसी पर्यटकों की संख्या में 20 फीसदी का इजाफा हुआ है. आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट 2011 बताती है कि 1,27,000 विदेशी पर्यटक पटना आए. 2010 में विदेशी पर्यटकों का आंकड़ा 65,000 था.

के.पी. जायसवाल शोध संस्थान के निदेशक डॉ. विजय कुमार चौधरी कहते हैं, ”बिहार में ऐतिहासिक स्थलों के विकास और पर्यटन से जुड़ी सुविधाओं के विस्तार से देसी और विदेशी पर्यटकों की दिलचस्पी बढ़ी है.” पर्यटकों के आकर्षण में गंगा आरती, रेडियो टैक्सी और वॉल्वो बसें जैसी चीजें जुड़ गई हैं. यहां का महावीर मंदिर भी पर्यटकों में खासा लोकप्रिय हो रहा है, इसकी वार्षिक आमदनी तकरीबन एक करोड़ रु. पहुंच चुकी है.

इस बदलाव में सरकार बड़ी वाहक है. 2003-04 में 5,202 करोड़ रु. के सुनियोजित खर्च का बजट था, जो 2010-11 में 24,075.68 करोड़ रु. कर दिया गया है. बिहार के आर्थिक सर्वेक्षण 2009-10 में वार्षिक विकास दर 11.90 प्रतिशत दर्ज की गई है. प्रति व्यक्ति विकास खर्च में स्थिति मजबूत हुई है. 2000-01 में 952 रु. की तुलना में यह 2010-11 में 2,617 रु. हो गया है.

पटना की प्राचीन पहचान मगध साम्राज्‍य की राजधानी पाटलिपुत्र से रही है. कहते हैं कि अतीत में लौटना संभव नहीं, लेकिन पटना में तेजी से हो रहे बदलाव के कारण स्वर्णिम दौर में वापसी होती लग रही है.

1 Comment

  1. wow…i love my Bihar.. now m studying bbm 2nd yr.. from manipal university… i really want to do something for my bihar.. no words for this article. really mere aankh me aashu aa gye……. specialy from the last sentence…!!!!!!!!!! i request you to give some work to me for the development of bihar… i can do anything for my bihar…!!! dont stop here ” picture avi baki hai.”… jai bihar… jai bharat…..!!!!!

Leave a Reply

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>